दिल्ली की गुमशुदा सड़क!

road_1024_1504624562_618x347.jpeg

New Delhi: डीडीए के भ्रष्टाचार का एक अनूठा मामला सामने आया है। यह मामला दिल्ली के ग्रेटर कैलाश का है। यहां 2007 में डीडीए के जोनल प्लान में एक जगह से दूसरी जगह तक जोड़ने के लिए एक सड़क बनी तो थी लेकिन सिर्फ कागजों में। इस बात का खुलासा एक RTI से मिली जानकारी से हुआ। जब पीएमओ ने इस पूरे मामले को संज्ञान में लिया तो उसके बाद डीडीए के डायरेक्टर सड़क को ढूंढ़ने निकले।

ग्रेटर कैलाश में है यह गुमशुदा सड़क

एक ऐसी सड़क जिसे ढूंढ़ने के लिए FIR भी दर्ज कराई गई, मगर पुलिस भी इस सड़क को नहीं ढूंढ पाई। सबसे पहले आपको इस पुरे मामले को समझते है। सन् 2007 में डीडीए ने एक जोनल प्लान तैयार किया था। जिसके मुताबिक एक मॉल भी बनना था, मगर यहां के लोगों के विरोध के बाद यहां कोई मॉल नहीं बनाया गया। मगर इसी मॉल से जुड़ने के लिए यहां एक सड़क बनायी गई। RTI से मिली जानकारी के अनुसार डीडीए ने इस सड़क पर 900 गाड़ियां भी चलती हुई दिखाई है। करीब 148  RTI फाइल करने के बाद सुप्रीम कोर्ट के वकील विवेक शर्मा को ये जानकारी 4 साल में मिली है।

विवेक शर्मा ने बताया, ‘डीडीए से हमें जो नक़्शा मिला है उसमें यहां सड़क दिखायी गई है। मगर यहां वह सड़क है ही नहीं। जब किसी अधिकारी ने नहीं सुनी तो हमने पीएमओ को पत्र लिखा और उसके बाद डीडीए के अधिकारी आज सड़क ढूढ़ने आए, मगर सड़क नहीं मिली। पीएमओ के आदेश के बाद आज ग्रेटर कैलाश में डीडीए के प्लानिंग डायरेक्टर डॉ. के श्रीरंजन डीडीए की गुमशुदा सड़क ढूंढ़ने मौके पर पहुंचे। इस दौरान यहां के तमाम RWA सेक्रेटरी मौजूद थे। इस दौरान लोगों की डीडीए डायरेक्टर से कहा-सुनी भी हो गई। लोग किसी तरह डीडीए के प्लानिंग डायरेक्टर श्रीरंजन को उस जगह ले गए जहां ये सड़क ख़त्म हो जाती है। करीब 900  मीटर की गुमशुदा सड़क पर अब दो बड़े स्कूल बन चुके हैं। साथ ही कई लोग यहां पर रहते भी हैं। हमने जब डीडीए प्लानिंग डायरेक्टर से पूछा की कहां है सड़क बताइये, तो डायरेक्टर ने बात करने से ही मना कर दिया। डीडीए के प्लानिंग डायरेक्टर हम पर ग़ुस्सा हो गए।’

उन्होंने कहा कि डीडीए ने अब इस पुरे मसले पर चुप्पी साध रखी है और कहा कि इस मामले का जवाब वो देंगे, मगर कब देंगे ये नहीं पता। मगर अब सवाल उठता है कि चार साल के लंबे संघर्ष के बाद ये खुलासा हुआ है। मगर इस मामले को देख कर लगता है कि पता नहीं ऐसी कितनी ही गुमशुदा सड़कें दिल्ली में होंगी।

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s