”जहाँ जी चाहे सीता जाये”

Image result for ram and seeta

जहाँ जी चाहे सीता जाये’
बोले प्रभु लक्ष्मण से–‘अब वह मुझको मुँह न दिखाये

‘दुष्ट असुर से ठान लड़ाई
मैंने कुल की आन बचायी
पर जो पर घर में रह आयी
उसे कौन अपनाये!

‘अवध उसे जो ले जाऊँगा
अपनी हँसी न करवाऊँगा!
क्या उत्तर मैं दे पाऊँगा
यदि जग दोष लगाये!

चर्चा क्या न रहेगी छायी–
जाने कैसे अवधि बितायी!
जो कंचन-मृग पर ललचायी
लंका उसे न भाये!”

जहाँ जी चाहे सीता जाये’
बोले प्रभु लक्ष्मण से–‘अब वह मुझको मुँह न दिखाये

गुलाब खंडेलवाल

Source : कविता कोश

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s