इक इक करके सबने ही मुंह मोड़ लिया

16eec-1i-p02fb1trkswme11t95vg

इक इक करके सबने ही मुंह मोड़ लिया
इस दुनिया से अपना नाता तोड़ लिया

जहाँ से लौट के आना भी है नामुमकिन
ऐसे जग से अपना रिश्ता जोड़ लिया

जिस्म लगे बेजान मगर हम जीते हैँ
हम से सब ख़ुशियों ने रिश्ता तोड़ लिया

पत्थर तो बदनाम बहुत है ज़ख्मो मे
हमने तो शीशे से ही सर फोड़ लिया

घुट घुट कर आंसू की बूँदें पीते है
क़तरों ने नदियां से रिश्ता जोड़ लिया

जब तक न टूटे सांसों कि डोर सिया
मैंने राम के नाम से रिश्ता जोड़ लिया

सिया सचदेव

Source: कविता कोश

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s